यह कहना मुश्किल है यह बैंगन

– मेघान अहरन